Monthly Archives: July 2011

Kamine(e) – V

फूल खिलते हैं बहारों का समां होता है, ऐसे ही मौसम में तो प्यार जवां होता है || छददू के हृदय में भी प्रेम उमड़ने लगा था| उसके भी तन बदन में प्रेम के फुव्वारे फूटने लगे थे| जिस पुरुष का … Continue reading

Aside | Posted on by | 3 Comments